Custom Search

Monday, August 17, 2009

प से पतंग.........










कहता है, प्यारेलाल,

मेरे पास आओ तुम,
गुड्डी और मुन्नी को भी,
मेरे पास लाओ तुम,
मेरे पास हैं, कुछ खिलौने,
उन्हें लेकर जाओ तुम,
खेलो और खेलाओ सबको,
सबका मन बहलाओ तुम।।
_________________________
_______________________________
















से पतंग, चलो उड़ाएँ,

हवा से इसकी बात कराएँ,
एक दूसरे से ऊपर ले जाएँ,
हँसी-खुशी हम मन बहलाएँ।।
_______________________________
___________________________________














सर सर सर सर उड़ी पतंग,
हवा से बातें करती पतंग,
बड़ी पूँछ और हरी पतंग,
वह देखो वह मेरी पतंग।
मुन्नू और चुन्नू भी लाए,
बड़ी नीली और पीली पतंग,
आओ मिलजुलकर उड़ाएँ,
पीली, नीली, हरी पतंग।।
___________________
____________________
प्रभाकर पाण्डेय
________________________


1 comment:

समयचक्र : महेन्द्र मिश्र said...

बड़ा प्यारा बाल गीत है बहुत ही उम्दा रचना.

 
www.blogvani.com चिट्ठाजगत